नास्त्रेदमस की वो भविष्यवाणी जिसे सुनकर आपकी रूह कांप जाएगी।

0
480

16वीं सदी के जाने माने फ्रांसीसी भविष्यवक्ता नास्त्रेदमस ने 400 साल पहले 20 शताब्दियों की जो भविष्यवाणियां की थी उनमें से अधिकतर सच हुई। इसलिए 2018 के बारे में की गई उनकी भविष्यवाणी हमें अंदर से झकझोक देती है। नास्त्रेदमस की भविष्यवाणियां बहुत उलझाऊ और अबूझ होती थी इसलिए दुनिया भर के कई वैज्ञानिक आज नास्त्रेदमस की इस भविष्यवाणी का तोड़ ढूढ़ने में लगे है। आईये जानते है नास्त्रेदमस की वो भविष्यवाणी जिसने दुनिया को बेचैन कर दिया है।

हिटलर का उदय, द्वितीय विश्वयुद्ध, परमाणु बम, 9/11 हमला हो या लंदन की भीषण आग ये वो भविष्यवाणियां थी जो बिल्कुल सच हुई। यहां तक कि दुनिया के सबसे ताकतवर देश के 45वें राष्ट्रपति के बारे में जो भी उन्होंने कहा वो सब कुछ डोनाल्ड ट्रम्प से मिलता है।

नास्त्रेदमस की भविष्यवाणी के अनुसार, 2018 में कई प्राकतिक आपदाएं आएंगी जो सब उथल पुथल कर देंगी। दुनिया की कई शक्तियां आपस मे टकराएंगी जिससे विश्व की आर्थिक स्थिति बिगड़ जाएगी और चारो तरफ सिर्फ हाहाकार ही होगा।

भविष्यवाणियां जो सच हो गयी और कुछ के होने का समय हो चला है।

अपनी किताब ‘द प्रोफेसीज’ में नास्त्रेदमस ने तीसरे विश्वयुद्ध की भविष्यवाणी की जो 2018 में होगा। उनके अनुसार ये युद्ध 2 देशों के बीच नहीं बल्कि 2 दिशाओं के बीच होगा अर्थात पूर्व और पश्चिम के देशों के बीच। अमेरिका और उत्तर कोरिया की स्तिथि इस बात को सच करने पर तुली है।

नास्त्रेदमस के मुताबिक, इंसान इंसान को मार रहा होगा। आसमान से आग के गोले बरसेंगे और लोग खुद को असहाय महसूस करेंगे।उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन के लगातार परमाणु परीक्षण इस भविष्यवाणी को और मजबूती देते है।

साल 2018 में कई विनाशकारी प्राकतिक आपदाएं आएंगी। चीन भूकंप से सबसे ज्यादा प्रभावित होगा। पैसिफिक के ज्वालामुखी हर तरफ आग बरसाएंगे। दुनियां के कई हिस्सों में भीषण बाढ़ आएगी। जापान चीन और ऑस्ट्रेलिया इससे सबसे ज्यादा प्रभावित होगा।

नास्त्रेदमस के मुताबिक इटली में विसूवियस ज्वालामुखी का प्रकोप देखेगा जो आज तक केवल 2 बार ही फटा है। भू-वैज्ञानिको की माने तो इस ज्वालामुखी में हलचल तेज हो गयी है।

नास्त्रेदमस ने भारत को लेकर भी कई सटीक भविष्यवाणियां की है जिनमें इंदिरा गांधी की मृत्यु भी शामिल है। उनके अनुसार भारत मे गंगा किनारे भीषण युद्ध होगा और भारत का एक नया जन्म होगा। विरोधी शक्तियां एक होगी और भारत पर हमला करेगी लेकिन अंत मे उन सभी अनैतिक शक्तियों का नाश होगा।

हालांकि नास्त्रेदमस ने 2025 में फिर से शांति स्थापित होने की भी बात कही है। उनके अनुसार युद्ध समाप्त हो चुका होगा लोग उस पल का आनंद लेंगे और एक नया संवेरा होगा।

नास्त्रेदमस अधिकतर अपनी बातें कविताओं के माध्यम से कहते थे जिन्हें समझना बहुत मुश्किल काम है। हम आशा करते है कि ऐसा कुछ न हो लेकिन मौजूदा हालात को देखते हुए हमें कुछ चीजों के लिए तो तैयार रहना ही होगा।

साभार
शिब्बू

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here