किराने दुकानदार की अनूठी पहल – ‘फ्री स्कूल अंडर द ब्रिज’

0
340

आज के समय में सभी अपने कार्यों में व्यस्त हैं ! कोई व्यापार में तो – कोई नौकरी में सभी को भी अपने-अपने कार्यो से फुर्सत नहीं है ! लेकिन आज हम आपको एक ऐसे शख्स से रूबरू कराना चाहते है जो अपने लिए नहीं बल्कि हमारे समाज में स्थित गरीब बच्चों को शिक्षित करने की पहल कर चुके हैं !

rajesh kumar sharma
Rajesh Kumar Sharma (Founder of ‘Free School Under The Bridge’)

source


मिलिए ‘राजेश कुमार शर्मा’ से, ये शख्स ‘फ्री स्कूल अंडर द ब्रिज’ (Free School Under The Bridge) के स्कूल के संस्थापक है! और ये इस स्कूल में मुफ्त शिक्षा प्रदान करते है! साथ ही ये अपनी किराने की दुकान भी चलाते हैं! किराने की दुकान खोलने से पहले राजेश बच्चों को पढ़ाने पहुँच जाते हैं!

‘फ्री स्कूल अंडर द ब्रिज’ नाम से ही पता पढना है की यह स्कूल मुफ्त शिक्षा प्रदान करता है और किसी पुल के नीचें स्थित है! जी हाँ यह स्कूल यमुना बैंक मेट्रो स्टेशन के पुल के नीचें स्थित है! इस स्कूल की स्तापना 2010 में की गयी थी! शुरुआती दिनों में यानी 2010 में स्कूल में लगभग 50 बच्चें पढने आते थे! स्कूल की संरचना कुछ ख़ास न थी! परन्तु जैसे-जैसे समय बीतता गया चीजे बदलने लगी और आज के समय में ये बच्चों की संख्या बढ़ कर 270 के करीब पहुच गयी है एवं स्कूल की संरचना में भी बदलाव देखने को मिला है!

Free school under the bridge old pic 2011

free school under the bridge 2017

मेट्रो का पुल स्कूल के लिए छत है और मेट्रो की दीवार स्कूल का ब्लैक बोर्ड! ‘राजेश कुमार शर्मा’ का कहना है की जब मेट्रो पुल पर से गुजरती है तो मेट्रो का बहुत शोर की वजह से वह बच्चों को पढाना रोक देते है या वे बच्चों को ऊँचे स्वर में पढ़ाते हैं! पुल पर मेट्रो हर 5 से 7 मिनट में गुजरती है! कुछ भी हो ये पुल की वजह से ही आज गरीब बच्चे पढाई कर पा रहे हैं! ‘मेट्रो पुल’ यानी स्कूल की छत की वजह से बच्चों को धूप से छाया मिलती है और बारिश से भी बचाव होता है!

स्कूल में 2 शिक्षण-सत्र चलते है! प्रथम सत्र प्रातःकाल 9 बजे से 12 बजे तक चलता है! इस सत्र में छात्र पढने आते है! उसके बाद दूसरा सत्र शुरू होता है! जिसमे छात्राए पढने आती हैं!


कभी-कभी समाज के कुछ लोगो तथा NGO से भी स्कूल को सहायता भी मिलती है! जैसे बच्चों को मुफ्त भोजन, कपडे, पढाई की सामग्री, पीने के पानी का प्रबंध, किताबे आदि!

Lakshmi Chandra
Lakshmi Chandra

source

‘राजेश कुमार शर्मा’ के सहयोगी ‘लक्ष्मी चन्द्र’ जो की बिहार निवासी है ने 2011 को स्कूल (Free School Under The Bridge) में शामिल हो गये! इससे पहले वह बिहार के नक्सलवाद से प्रभावित क्षेत्रों में भी पढाया करते थे! परन्तु आर्थिक स्थिति ख़राब होने की वजह से वह दिल्ली आ गये और यहीं बस गये! उनके जीवन का लक्ष्य भी यही था कि देश के गरीब बच्चों को मुफ्त शिक्षा प्रदान करके शिक्षित किया जा सके!

राजेश कुमार शर्मा भारत के सभी नागरिकों से अनुरोध करते हुए कहते हैं कि ‘आप लोग कही भी रहते हों किसी भी गाँव में, किसी भी शहर में परन्तु आप अपने आसपास के कम-से-कम 2 गरीब बच्चों को अवश्य शिक्षित करें इससे उनका भविष्य बदल सकता है और हमारे देश में एक शिक्षित समाज बड़ी संख्या में उभर कर आएगा!’

आर्टिकल पसंद आये तो शेयर जरुर करें ताकि समाज के सभी लोगो तक यह सन्देश पहुंचे और हमारे देश का समाज एक शिक्षित समाज बन सके! Team NNSFEED की भी भारत के नौजवनो से यही विनती है समाज के गरीब बच्चों के खुशहाल भविष्य के लिए अपना योगदान जरुर दें!

इस सन्देश को ज्यादा से ज्यादा शेयर करे और समाज को जागरूक करें!

किसी भी सवाल सुझाव के लिए हमें मेल करें info@nnsfeed.com

जय हिन्द – वन्दे मातरम्

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here