वो बच्चा जिसने उड़ते पंछियों को देखकर अपना भविष्य तय कर लिया था बाद में भारत के परिवर्तन का प्रतीक बन गया।

0
481

बात है 1941 की जब तमिलनाडु के एक छोटे से गांव में एक 10 साल के बच्चे ने अपने अध्यापक से पूछा कि पंछी कैसे उड़ते है। अध्यापक ने बड़े ही प्यार से सभी विद्यार्थियों को समझाया कि पंछी कैसे उड़ते है लेकिन किसी की भी समझ न आया आखिरकार अध्यापक ने उन सभी छात्रों को समुद्र तट के किनारे ले जाकर दिखाया कि कैसे पंछी अपने पंखों को फैलाकर हवाओं में उड़ाने भरते है। ये बात उस 10 साल के बच्चे को इतनी पसंद आयी कि उसने पंछियों को ही अपना आदर्श बना लिया। वो बच्चा और कोई नहीं हमारे प्रिय दिवंगत अब्दुल कलाम आजाद साहब थे।

इस घटना के बाद छोटे कलाम ने अपने अध्यापक से पूछा कि वो इस दिशा में उच्च शिक्षा कैसे प्राप्त कर सकते है तब उनके अध्यापक ने उन्हें एरोनॉटिकल इंजीनियरिंग के बारे में बताया। कलाम जिस जगह से आते थे वहां शिक्षा का स्तर उतना अच्छा नहीं था इसके बावजूद कलाम साहब रात को रेलवे स्टेशन की लाइट्स के नीचे पढ़ते थे। ये वो जज्बा था जिसने हिंदुस्तान की तकदीर ही बदल दी।

कलाम साहब में पढ़ाई का जज्बा इतना ज्यादा था कि वो उच्च शिक्षा पाने के लिए उन्होंने अखबार भी बेचे। हम सभी जानते है कि विज्ञान के क्षेत्र में भारत की असली उड़ान के सूत्रधार कलाम ही थे। कलाम भारत के सर्वोच्च राष्ट्रपति पद पर भी विराजमान हुए। कलाम ने बचपन मे जो सपना देखा था उसे पूरा भी किया। इसलिए आज हम आपको उनकी कही वो बातें बताएंगे जो आज भी हमारे लिए प्रेरणा का स्रोत है।

हमें अपना लक्ष्य सही समय पर निर्धारित कर लेना चाहिए।

सपने सच होने के लिए उन्हें देखना जरूरी है। सपने वो नहीं होते जो हम सोने के बाद देखते है बल्कि वो होते है जो हमें सोने नही देते।

छात्रों को प्रश्न जरूर पूछना चाहिए। यह उनका सर्वश्रेष्ठ गुण है।

ईश्वर उसी की मदद करता है जो कोशिश करता है।

बाधाओं से नहीं घबराना चाहिए बाधाएं ही हमें बताती है कि हमारे अंदर कितना साहस है।

आत्मसम्मान आत्मनिर्भरता के साथ ही आता है।

अगर तुम सूरज की तरह चमकना चाहते हो तो पहले सूरज की तरह जलना सीखो।

मेरे लिए नकारात्मक अनुभव नाम की कोई चीज नहीं।

एक राष्ट्र उसके लोगों से मिलकर बना होता है। राष्ट्र जो चाहे वो पा सकता है।

ऐसे ही और रोचक तथ्य जानने के लिए जुड़े रहिये NNSFEED के साथ।

सभार

शिब्बू

किसी भी सवाल या सुझाव के लिए हमें मेल करें: info@nnafeed.com
जय हिन्द
वन्देमातरम!!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here